Thursday, May 31

"बचपन से पचपन "-31 मई 2018



Vipin GoelVipin and 85 others joined "भावों के मोती" within the last two weeks. Give them a warm welcome to your community!
 Vipin and 85 others joined "भावों के मोती" within the last two weeks. Give them a warm welcome to your community! 

""""शीर्षक -बचपन से पचपन"""""
बचपन से पचपन तक का सफर था बड़ा न्यारा
जवानी की अमीरी से गरीब बचपन था बड़ा प्यार।।

ना ईर्ष्या थी ना चिंता थी न जिम्मेदारी का साया था
खाली जेब टूटे बटन गंदे कपड़ो में सब कुछ पाया था
ना जाति पाति का बंधन था ना ही धर्मो की बेड़ी थी।
ना फरारी थी ना सफारी थी बस एक लकड़ी की रेहड़ी थी।
ना पसंद दिल्ली है ना बम्बई और सूरत है।।
बस एक बार फिर उस गरीब बचपन की जरूरत है।।
"""""स्वरचित- विपिन प्रधान"""""



 बचपन से बुढापे तक
खुदघिर गया है 
ना जाने अपनी चाहतों

में कहाॅ खो गया 
अपने ही बिछाये जाल में
कैद हो गया है इन्सान
पाप बोझ की गठरी से
लद गया है इन्सान
बचपन से पचपन का
हो गया है बुरा इन्सान
स्वरचित एस डी शर्मा



बचपन से पचपन तक
🔏🔏🔏🔏🔏🔏

यह स
रिता से सागर जैसी यात्रा थी
आरम्भ में अध्यात्म की एक कुशल पात्रा थी
उम्र के बहाव चढ़ते रहे
इसमें रिसाव बढ़ते रहे। 

यह भी गंगा की तरह गंदी होती रही
ईश्वर की ओर इसकी गति मंदी होती रही
बचपन की वह निश्छल मुस्कान 
कुटिलता की ही बन्दी होती रही। 

बचपन की निर्मलता को छद्म लूट गया
भोलेपन से तारतम्य सारा छूट गया
जीवन के इस विचित्र प्रवाह में
मन का आनन्द रुठ गया।

इधर उधर के विचार नृत्य करते थे
अपने स्वार्थ साधने के कृत्य करते थे
भोले भाव मिले रघुराई भूल गये
हालाकि यह रोज़ पढ़ा करते थे।

सरिता तो पा लेती सागर
किन्तु मेरे पास रही गन्दी गागर
अब किस मुंह से कहूॅ दे दो दर्शन
ओ नियति के सुन्दर नट नागर।

भा.31/5/2018(गुरुवार )शीर्षक, बचपन से पचपन ःविधाःःकविताः
बचपन कोमल निर्मल निश्छल मन,
समता से भरा प्रेम सागर।

बाल्यावस्था शैशवावस्था पारकर
किशोरावस्था का अनूठा सागर।
समझदार लगने लगा जब सिर पै धरी यौवनावस्था की गागर।
जिम्मेदारियां बढने लगी धीरे धीरे,
शादीशुदा हुऐ जब सभी हम।
बच्चे हुए फिर इनका लालन पालन
दबने लगे बोझ तले सभी हम।
बढने लगी बच्चों की पढाई लिखाई,
भूल गए सब मस्ती और बचपन।
जिंन्दगी के मायाजाल में फंसकर,
पहुंचे अभी हम उम्र पारकर पचपन।
अब शरीर में वो शक्ति रही न
नहीं रहा वो प्यारा सा बचपन।
याद आता है हमेशा याद आता रहेगा
हमको सदा ही सुहाना बचपन।
ता उम्र नहीं भूल सकते हम शायद ,
कभी खेले कूदे वो दिन लडकपन।
देह शिथिल पड गई हमारी।
आफत बनी कुछ नई बीमारी।
वैसै भी चंद दिनों के मेहमान हम,
जिंन्दगी जीना बन गई लाचारी।
फिर से हमारा जीवन बचपन बन गया है।
रूठना मनाना हमारा शगल बन गया है।
बच्चों बहुओं की शायद मुशीबत बने हम,
ये पचपन का जीवन बचपन बन गया है।
स्वरचितः
इंजी शंम्भूसिंह रघुवंशी अजेय
मगराना गुना म .प्र.
जय जय श्री राम राम जी।



बचपन से पचपन

एक अरसा बीत गया

बचपन से रुबरु हुए
दर्पण के समक्ष बैठी हूं
पचपन की दहलीज़ पे

जीवन के बहते सफर में
कब बचपन जिया था
श्वेत टेसू लगाए गेसू में
वो लम्हें खोज रही हूं

सुन्दर निश्चल निश्चिंत
बचपन कब जी पाई थी मैं
रिश्तों की कड़वाहट से
सहमती आई थी मैं

यौवन बेला में पिया संग
खिलखिलाइ थी मैं
मासूम बचपन जाने कहां
छोड़ आई थी मैं

आज खुश थी मैं
बचपन ठहर गया था
जब आंचल में मेरी
मेरा अक्स खिल गया था

जीवन के झंझावतों से
जिन्दगी आम हो गई थी
दायित्वों को पूरा करते करते
शाम हो गई थी

बीते लम्हों की उहापोह
कहां खींच लाई थी 
दर्पण में दिखी आंगन
की किलकारी लौट आई थी

निःस्वार्थ निष्कलंक निश्चिंत
बचपन खेल रहा था
पोतों के खिलौनों को
मेरा बचपन जी रहा था

दिल बच्चा हो गया है
आज सन्तुष्ट हूं गुदगुदा रही हूं
पचपन में बचपन का
आनन्द उठा रही हूं

स्वरचित : मिलन जैन
दिनांक: ३१ मई २०१८

भावों के मोती
31-5-2018
बचपन से पचपन


पचपन में भी बचपन रखिये
जवां सदा मन खुद में रखिये।

माना तन है थका थका
मन से खुद को नौंजवां रखिये।

बचपन से पचपन है आया
हर दौरे लुत्फ उठाते रहिये।

खट्टी मीठी बातों की गठरी 
अंत समय तक साथ है रखिये।

न देखें क्या छूट गया है
हाथ जो आया ,संभाले रखिये।

बचपन से पचपन कठिन चढ़ाई 
हौसले बुलंद चढ़ने के रखिये।

वीणा शर्मा

 बचपन से पचपन तक, क्या बदलता गया 
मन के कोने में रहा बच्चा, तन ढलता गयाl


छोटी छोटी ख़ुशी को,वक्त सहेजता गया 
यादें समेटे हर उम्र की , सफर चलता गयाl

वक्त की आँधी में बचपन, धूल बन उड़ता गया 
जिम्मेदारी बोझ पचपन तक, कर्ज सा चढ़ता गयाl

बच्चों की आँखों में, अपना बचपन ढूँढता गया 
कर्म की राह चलते हुए,उनके स्वप्नों को बुनता गयाl

ऋतुराज दवे


 प्रस्तुति 02

31 मई 2018


"बचपन से पचपन "

बचपन बहुत नादान और भोला होता है

पर तीक्ष्ण बुद्धि और चुस्ती फुर्ती का स्वामी होता है

यदि पचपन रहेगा और खेलेगा
बचपन के सँग

हँसी खुशी के साथ उत्तम मनोरंजन होता है

सब पचपन वालों को चाहिये खेलें बचपन के सँग

और जीवन में पायें खुशियाँ और भरपूर उमँग

(स्वरचित)

शीर्षक - बचपन से पचपन तक
भावों के मोती
कवि जसवंत लाल खटीक

( स्वरचित )

बचपन बड़े , नाज़ो से बीता ,
माँ-बापू के , लाड़-प्यार में ।
सबका , राजदुलारा था , 
मेरे प्यारे से , बचपन में ।।

पाँच बरस तक ,मौज मस्ती ,
बात- बात पर , सबसे झगड़ता ।
भाई- बहनों का , लाडला ,
मन ही मन , मै ,खूब अकड़ता ।।

दस बरस में , पढ़ाई करने ,
शहर मुझको ,भेज दिया ।
परिजनों , का साथ छुटा ,
तन्हा मै , अब रह गया ।।

बीस बरस में , आते-आते ,
नोकरी मुझको , मिल गयी ।
इक्कीस में , मेरी शादी हुयी ,
सपनो की रानी , मिल गयी ।।

पच्चीस बरस , में मुझको ,
बाप , बनने का , सौभाग्य मिला ।
बेटी और बेटे , को पाकर ,
जीवन का , आनन्द मिला ।।


तीस से पैंतीस , बरस में ,
जिम्मेदारी , का बोझ बढ़ा ।
बच्चों की शिक्षा , के साथ ,
जीवन में और , जोश बढ़ा ।।

चालीस बरस , में आते-आते ,
बालो में , सफेदी आयी ।
रिश्ते नाते , निभाते-निभाते ,
जिंदगी , थोड़ी सी मुस्करायी ।।

जिंदगी के , अर्धशतक में ,
बच्चों की शादी, की चिंता ।
शौक मौज से ,शादी करवाके ,
बहुत ही खुश , हुआ मै , पिता ।।

बचपन से पचपन , तक, "जसवंत ",
जिंदगी को , जी भरके जिया ।
मोह माया , सब कुछ त्याग कर ,
प्रभु ! की भक्ति , में तन-मन दिया ।



"बचपन से पचपन"
सपने सजोते नई उमंगे नई कहानी 
अच्छी लगती चाँद तारों की कहानी 

नानी और दादी की ही जुबानी

गुजरते पल चढ़ती जवानी 
खाबों को सच करने की कहानी 
कर्मों से जुड़ने मौज़ों की रवानी

सूरज चढ़ता रहा दिन ढलता रहा 
साथ साथ सुख दुःख जीता रहा
रिश्ते नाते मिलते और बिछुड़ते रहे 

गुजरते पल झलकते पलकों पर
बिखरते सपने अधूरी कहानी 
ढलती जवानी धूमिल कहानी 
है पचपन की बातें पूरानी

सुबह से शाम तक का पहर
है बचपन से पचपन का सफर
सबकी है यही राम कहानी

स्वरचित पूर्णिमा साह पश्चिम बंगाल

Wednesday, May 30

"प्रेम"-30 मई 2018



प्यार कोई बोल नहीं,
प्यार आवाज़ नहीं,
इक एहसास है ये।

दिल से महसूस करो,
रुह से निकलती,
इक खुश्बू है ये।
इसका कोई मोल नहीं,
सीप की घोर तपस्या का,
अनमोल मोती है ये।
इसमे कोई चाह नहीं,
उम्मीदों की राह नहीं।
निःस्वार्थ भाव का,
अथाह समुन्दर है ये।
प्यार का अन्त नहीं,
शाश्वत सत्य सुन्दर,
सौभाग्य है ये।
©प्रीति



ज़िंदगी आ तुझे मैं प्यार करुँ,
खुद से ज्यादा तुझ पर एतबार करूं
सपने सलोने सारे साकार करूँ।

खुशी औ गम से नजरें चार करूँ,
बीते पलों को ना याद करुँ।
जिंदगी आ तुझे मै प्यारकरूँ।
बन के तितली बागों मे फिरूँ,
भौरे की गुनगुन मन में भरूँ।
गुलाब सी हँसी जग मे बिखेरुँ,
काँटों के संग मुस्कुराना सीखूँ।
ज़िंदगी आ तुझे मैं प्यार करूँ।
सूरज सा रौशन हो जीवन हमारा,
चंदा सा शीतल हो जीवन हमारा।
मन में उमंगें तरंगें भरी हो,
खुशियों का सुंदर संसार हो।
मुश्किल से मुश्किल राहें,
धीरज और हिम्मत से आसान हो।
आ तुझसे मैं इक वादा करूँ,
हँसते हँसते सारे गम बेकार करूँ।
ज़िन्दगी आ तुझे मैं प्यार करुँ,
खुद से ज्यादा तुझ पर एतबार करुँ।
©प्रीति


''प्रेम"

प्रेम पूर्ण मन में होता ,सदगुणों का संचार

प्रेम शब्द से विलग हुये तो हर खुशी बेकार ।।

प्रेममयी हृदय में , बसता वो निर्विकार
जिसकी है ये श्रष्टि जिसका ये संसार ।।

प्रेम की महिमा जो गाये, जोड़े प्रेम के तार
अलौकिक सुख पाये वो भये भवसागरसे पार ।।

छल और कपट क्या आये जब हो सच्चा प्यार
सच्चे प्यार को समझे जो , सुधरे स्वयं आचार ।।

प्रेम का कोई मोल नही , प्रेम में डूबो यार 
प्रेम से चलता है ये जग , नफरत नरक द्वार ।।

सबमें ही है वो बसा , करलो नेक विचार
उसकी ही लीला ये , वो जग का आधार ।।

''शिवम्" सूर हों या मीरा , सबने किया स्वीकार
प्रेम समझो मेरे भाई , करो खुद पर उपकार ।।

हरि शंकर चाैरसिया''शिवम्"


 "प्रेम'

माँ से तो है जन्मो का रिश्ता।

उनसे अटूट प्रेम करे हम सदा।।

पिता करे प्यार तो हमारें लिए
हर दिन जैसे त्योहार।।

भाई जो करे बहना से प्यार।
बहना का रहे मैका आबाद।।

दोस्त जो करें दोस्त से प्यार।
जीवन बगीया महके सालो साल।।

पति जो करे पत्नी से प्यार।
महके पत्नी का घर संसार।।

बच्चों जो करे हमें प्यार।
स्वर्ग से सुन्दर हो घर संसार।

देश से करें हम प्यार।
एकता रहे बरकरार।।

ईश्वर से करें हम प्यार।
जीवन नैया हो पार।।
स्वरचित -आरती श्रीवास्तव।


चले आईये......

आ सको तो आ जाओ बन कर मेरी, 

प्रेम क्या है ना मुझको समझाइये।

खोल कर रख दिया है हृदय मेरा,
अब चले आईये बस चले आईये।।

जल सकोगी अगर तुम बन करके लौ,
तो पतिंगे की तरह मैं जल जाऊंगा।

धूप बन करके जो साथ तुम चल सको,
शाम की तरह मैं भी ढल जाऊंगा।

जल रहा है बदन बनके शीतल पवन,
आज बह जाईये आज बह जाईये।।

आ सको तो.........
प्रेंम क्या है..........
खोल कर रख......
अब चले.........

प्रेम की बात करता है सारा जहाँ,
प्रेम क्या है ये समझा है बिरला कोई।

प्रेम को ढाई आखर बताता कोई,
प्रेम सागर से गहरा गिनाता कोई।।

प्रेम ना आदि है प्रेम ना अंत है,
प्रेम दूजा नई प्रेम बस प्रेम है ।

बात इतनी सी है जो,
समझ जाईये हां समझ जाइये।।

आ सको...........

प्रेम क्या ........

खोलकर.....
चले आईये......

(राकेश पांडेय)




शीर्षक : प्रेम
प्रेम की भाषा मौन अभिलाषा
प्रियतम समझ न पाए रे
कोन जतन करूं तुझे रिझाऊं
बेरी समझ न पाए रे

मन का पागल पंछी देखो
प्रेम पंख फैलाए रे
पिया अनाड़ी बन बेगाना
मंद मंद मुस्काए रे

हृदय हार करूँ समर्पित
काहे तू इतराए रे
रूप तेरा बडा सलोना
मन में प्रीत जगाए रे

नैन शराबी चाल नवाबी
हलचल सी मचाए रे
कैसे अपना दिल न हारुं
कोई तो मुझे बताए रे

प्रेम प्रीत में बावली राधा
श्याम मिलन धुन गाए रे
मीरा लोक लाज त्याग कर
कान्हा प्रेम रंग जाए रे

हीर रांझा और लैला मजनू
प्रेम में मिट जाए रे
मै सुन्दर सी नार नवेली
काहे ना तू भरमाए रे

तुझको देखूं सांस भरूं मैं
तन शक्ति आ आये रे
दूरी तेरी सह ना पाऊँ
नैना नीर बहाए रे

ह्रदय समर्पित जान समर्पित
धड़कन शोर मचाए रे
मैं हूं तेरी प्रियतम मेरे
आ प्रेम में जग बिसरावें रे

स्वरचित : मिलन जैन


प्रेम शक्ति है, प्रेम है भक्ति 
कहीं वियोग कहीं आसक्ति 
राधा के लिए बंसी वाला 
मीरा के लिए विष का प्याला 
सीता के लिए पंचवटी है 
उर्मिला और सावित्री है 
गीत कविता और गजल है 
चांद चकोर ताजमहल है 
प्रेम अथाह सुख का सागर 
कभी छलकती लोचन गागर 
तप्त मरू में शीतल नीर 
तन सहलाता मंद समीर 
प्रेम रागिनी प्रेम ही वीणा 
-------- ------
प्रेम मिलन है प्रेम है सपना 


 "प्रेम" पर कुछ हाइकु

१-परमानंद

है सकल आनन्द
प्रेम सुगंध।

२-कृष्ण का प्रेम
है मित्रवत स्नेह
सुदामा मित्र।

३-पिता का प्रेम
दशरथ के राम
प्रेम निष्काम।

४-देश से प्रेम
सैनिकों की वीरता
वीर शहीद।

५-निःस्वार्थ प्रेम
माँ का प्यार दुलार
अन्तःकरण।

सर्वेश पाण्डेय

भा.30/5/2018,बुधवार ,शीर्षक ः(प्रेम )
विधाःःकविता ः
प्रेम प्रभु के रूप में मिलता।
प्रेम पुष्प से हृदय खिलता।
प्रेमसुधा गर पी लें हम सब,
मन में वैरभाव नहीं घुलता।
प्रेम प्रफुल्लित करता है हृदय।
प्रेमसुमन से कुसमित प्रेमालय।
प्रेम भक्ति में हम सब डूबें तो,
निश्चित सुरभित होता देवालय।
प्रेम परिभाषा सुनिश्चित नहीं है।
उपासना से प्रेम निश्चित नहीं है।
प्रेमसाधना से पाप धुल जाऐ कहीं,
इससे बडा उपाय प्रायश्चित नहीं है।
प्रेम पिपासु हर मानव होता है।
नहीं समझे ये वो दानव होता है।
प्रेम यज्ञ में आहुति देना चाहें हम,
प्रेम में छिपा अंश राघव होता है।
स्वरचितः
इंजी. शंम्भूसिंह रघुवंशी अजेय
मगराना गुना म.प्र.
जय जय श्री राम राम जी।


30-5-2018
प्रेम
2

प्रेम की अभिवेदना में
नैन मूँदे ,अश्क बहते
है विकट परिस्थिती में,
क्या यही है प्रेम की अभिव्यंजना?

अनगिनत स्वर्ग थे गढ़े
प्रेम की परिकल्पना में
ढह गए पल पल खड़े,
क्या यही है प्रेम की अभिव्यंजना?

प्रेम की पायल पहन
जग में झनकी जब कहीं
तार टूट,नैन विगलित,
क्या यही है प्रेम की अभिव्यंजना?

प्रेम मेरा है निरूपित
नही पतित है वो कहीं
पुष्प में काँटों को सहना,
क्या यही है प्रेम की अभिव्यंजना?

चर चराचर है जगत में
प्रेम की वर्षा रही
कहीं झोली भरी,कोई खाली रह गया
क्या यही है प्रेम की अभिव्यंजना?

वीणा शर्मा(स्वरचित )


*प्रेम*
------------
दुख की भीषण बदली में
वो बूंद बूंद रिसता है
और मर्म पर मेरे
प्रेम का मरहम रखता है

वो पास नहीं है मेरे पर
अहसास में मेरे रहता है
आँखों में काजल बनकर
लब पर थरथरातीयाद बनकर

रुह में पिघलता है मोम की तरहा
रग रग में बहता है लहु की तरहा
रोम रोम में महकता है
गुलाब की खुश्बू की तरह

निगाहों से दूर निगाह के पास है
मेरा प्रेम दूर रह कर भी मेरे पास है।।

डा.नीलम.. अजमेर

आज के विषय "प्रेम" पर मेरी ये रचना ................साँस साँस चन्दन हो गयी ...............
साँस साँस चंदन हो गयी

मैं! नीर भरी कुंज लतिका सी 
साँस साँस महकी चंदन हो गयी
छुई अनछुई नवेली कृतिका सी
पिय से लिपटन भुजंग हो गयी!

अंगनाई पुरवाई महके मल्हार सी 
रूप रूप दर्पण मधुबन हो गयी
प्रियतम प्रेम में अथाह अम्बर सी
मन राधा सी वृंदावन हो गयी!

गात वल्लरी हिल हिल हर्षित सी
तरूवर तन मन पुलकन हो गयी
मैं माधवी मधुर राग कल्पित सी
मोहनी मूरत सी मगन हो गयी!

अनहद नाद उर की यमुना सी
मन तृष्णा विरहनी अगन हो गयी
भीगी अलकों की संध्या यौवना सी
दृग नीर भरे नैनन खंजन हो गयी!

मैं! विस्मित मौन विभा के फूल सी
बूंद बूंद घन पाहुन सारंग हो गयी
बिंदिया खो गयी मेरी सूने कपोल 
साँसों से महकी अंग अंग हो गयी!

डा. निशा माथुर

 **भावों के मोती **
######प्रेम######
ढाई अक्षर का यह शब्द 

पूरा ब्रह्माण्ड समेटे है 
ना शब्द है ना साहस है 
कलम भी मेरे रूठे है 

प्रेम पावन भाव है 
ममता है वात्सल्य है 
आशा है विश्वास है 
धैर्य है सद्भाव है 
रश्मि है ज्योति है 
प्रेम से ही तो तेज़ है 
राधा है मीरा है 
यशोदा और सुदामा है 
प्रेम है तो जीवन है 
कृष्ण हैं प्रेम है 
प्रेम है तो जीवन है। 
स्वरचित पूर्णिमा साह पश्चिम बंगाल 


" प्रेम"
प्रेम शब्द अधूरा होकर ,

जीवन में रंग भरता है,
कब हो जाए प्रेम,
पता भी नही चलता है,
*****************
प्रेम वो मूक भाषा है,
नजरों से जो समझाए,
खुली आँखों से सपनें,
हर कोई दिल में सजाए,
********************
संसार के हर जीव के,
दिल में जगह रखता है,
उपवन में भँवरों का,
फूलों से प्रेम दिखता है,
*****************
मिला जो प्रेम तेरा,
जीवन में खुशीयों के रंग भरे,
प्रेम शब्द अधूरा होकर भी,
जीवन को हमारे सम्पूर्ण करे,
"रेखा रविदत्त"
30/5/18
बुधवार


(1)प्रेम का मोल नहीं न भाव। 
प्रेम है हंसता दुखता घाव।

लिए फिरे मन सदा उडाय।
न प्रेम के पंख नहीं न पांव।

न सोचे समझे भोला प्यार। 
चलाती ये दुनिया कैसे दांव।

कहां डूबे कहां उतरे न जाने। 
चले कैसे बिन पतवारी नाव।

गोरी के कारी हो वो मतवारी़। 
न ये देखे शहर न देखे गांव।

विपिन सोहल
(2)मुहब्बत नाम है तन्हाई में तन्हा सुलगने का
अजब खेल है तकदीर के बनने बिगड़ने का


कहां कब जान पाया हूँ मिजाजे़ हुस्न मै तेरा
बहाना ढूंढ के मिलना कभी मौका झगड़ने का

करोगे इश्क तो जानोगे तुम जलवे मुहब्बत के
मजा खूब है महबूब से मिलने को तड़पने का

ये दुनिया देखती है तजरबो को हिकारत से
सफर एक शै का है ये कली से फूल बनने का

मुहब्बत एक नेमत है मेहरबानी है कुदरत की
यही एक दौर है सोहल पत्थर के पिघलने का

विपिन सोहल 

नमन "भावों के मोती"
30/5/2018
चंद हाइकु 
विषय -प्रेम 
(।)
राधा या मीरा
छिछली है वासना 
प्रेम गहरा
(2)
प्रेम प्रतीक
श्रृद्धा, आस्था, विश्वास
देवत्व वास
(3)
घृणा है शूल
जीवन की बगिया
प्रेम है फूल
(4)
प्रेम निःस्वार्थ
सिर्फ देना ही जाने
है परमार्थ
(5)
तन व मन 
अहं का विसर्जन
प्रेम सृजन
ऋतुराज दवे

"कांच /शीशा ""10अक्टुबर 2019

ब्लॉग की रचनाएँ सर्वाधिकार सुरक्षित हैं बिना लेखक की स्वीकृति के रचना को कहीं भी साझा नहीं करें   ब्लॉग संख्या :-531 https://m.faceb...