मुकेश राठौड़(मॉडरेटर)



Image may contain: Rathod Mukesh, standing and outdoor




"लेखक परिचय"

01)नाम:- मुकेश गोकुल राठौड़ 02)जन्मतिथि:- 07/03/1985 03)जन्म स्थान:- डोंगरगाँव जिला खरगोन म.प्र. 04)शिक्षा:- आइटीआई ड्राफ्ट्समैन सिविल,12वीं कृषि संकाय 05)सृजन की विधाएँ:- कविता 06)प्रकाशित कृतियाँ:- 07)कोई भी सम्मान:- 08)संप्रति(पेशा/व्यवसाय):- प्राइवेट कंपनी.. सिविल इंजीनियर.. 09)संपर्क सूत्र(पूर्ण पता):- 42 ब्रज विहार कॉलोनी (वैशाली नगर) इंदौर म.प्र. 10)मोबाइल नंबर:- 7354592825,797647936, 11)ईमेल आईडी:- rathodmukesh445@gmail.com
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

दिनांक :- 13/04/2019
शीर्षक :- मर्यादा/राम नवमी

खिल उठा है आँगन देखो...
पूरा अवध है हरषाया..
कौशल उपवन खिला पुष्प..
पूरा अवध है महकाया...
सुंदर सौम्य छवि अतिसुंदर..
बाललीला अति मनभावन..
शुभ आगमन से जिनके..
हुआ पूरा अवध है पावन..
रघुकुल नंदन राज दुलारे..
माँ कौशल्या के आँख के तारे..
गुणागार करुणासागर..
चरण स्पर्श में अहिल्या तारे..
भक्तवत्सल प्रभु श्रीराम...
भक्त केवट आतिथ्य स्वीकारे..
भावविहल हो उठी सबरी...
देख प्रभु बेर खाए चटखारे..
महाबली बालि को संहारे..
सुग्रीव से मित्रता निभाए..
पितृ वचन ले शिरोधार्य..
मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाए..


स्वरचित :- मुकेश राठौड़    


@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@                  
शीर्षक :- जेब
वो जेब सदा ही मुस्कुराती रही ,
हर गम अपना मुझसे छुपाती रही ।
ख्वाहिशों को देती रही सदा मंजिले ,
हौसलों के सिक्के खनकाती रही ।
मेरी हर सफलता का आधार रही ,
परिश्रम का सदा साक्षात्कार रही ।
तपती धूप से चुनकर के कुछ मोती,
परिवार की खुशियों का आधार रही ।
खुशियों से थी आबाद जेब पिता की ,
रहती न थी कोई जगह तब चिंता की ।
सांस लेने तक की न थी फुरसत उन्हें,
जिम्मेदारियां ही इतनी होती पिता की।

स्वरचित :- मुकेश राठौड़


@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@




मैं और मेरा ने,
हम सबको घेरा है।
पर मत भूल मनु तू,
तेरे कर्मों पर उसका पहरा है।
कर्म ही तेरे पतवार बनेंगे,
पार करने को वैतरणी।
गर कर ली वश में तूने,
अंतर्मन की चंचल हिरणी।
पा जाएगा सम्मान जग में,
होगी जय जयकार तेरी।
छोड़ दामन मै और मेरा का
व्यवहार संवारे किस्मत तेरी
"मैं"और"मेरा" है,
अहंकार की निशानी।
लिखती सदा ये,
डुबती नैया की कहानी।

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

विषय :- मान/अपमान

बहुत हुआ अपमान सेना का,
बहिष्कार करो ऐसे नेता का।
जिसने दिया बयान अनर्गल,
मुकदमा उस पर देशद्रोह का।
कोई भी आए मुंह उठाकर,
कर जाए अपमान सेना का।
ऐसा संविधान किस काम का,
ना बचा पाए सम्मान सेना का।

जय हिंद की सेना 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

माँ शारदा स्तुति

हे माँ शारदे...
धवलवर्ण श्वेत पद्मासना..
या वीणावादिनि..
कर जोड़े करूं आराधना...
श्वेत हंसवाहिनी..हे माँ शारदे..
अज्ञान के अंधकार से तार दे...
वर दे..वर दे..वर दे..
शब्द सुर साधना..उर भर दे..
हे माँ शारदे..हे माँ शारदे..
वर दे..वर दे..वर दे..
लेखनी को मेरी वर दे..
भटके न सद्मार्ग से..
न भटकें कभी परमार्थ से..
हे माँ शारदे..हे माँ शारदे..
हे विद्यादायिनि..
अक्षर..अक्षर..तेरी वाणी है..
तू सकल वेद की निर्माणी है..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
शीर्षक :- उपकार

उपकार मानिए प्रकृति का...
है ये नवजीवन संस्कृति का..
ये प्राणवायु करे उत्सर्जित..
है ये आधार स्तंभ सृष्टि का...

उपकार मानिए प्रकृति का..
निस्वार्थ करे ये परोपकार..
अमृत है इसका कण-कण...
सहे सदैव मानवीय प्रतिकार..

उपकार मानिए प्रकृति का...
सरिता सी कलकल इसकी..
निर्झर निर्झरणी सी प्रवृत्ति..
पंछियों सी कलरव इसकी..

उपकार मानिए प्रकृति का...
है आयुर्वेद की ये जन्मदात्री...
पावन पुनिता आँचल इसका..
तपस्वियों की है सिद्धीदात्री..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़


@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
कभी मिले फुरसत तो..
जाकर आना फिर उस दहलीज पर..
जहाँ सूखा कुछ आँखों का पानी..
तुम आओगे इस उम्मीद पर..
कितने स्वप्न संजोए थे उन आँखों ने..
कभी सहारा बनोगे इस उम्मीद पर..
अपनी भागदौड़ भरी जिंदगी से..
निकाले थे अनमोल पल फुरसत के..
लूटा दी हर खुशी तुम पर..
ख्वाब किए पूरे तेरी हर जरूरत के..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

हे युवाओं...
तुम हो भविष्य राष्ट्र का..
हो सुखद स्वप्न राष्ट्र का..
करो कुछ ऐसा जग मे..
हो अमर नाम राष्ट्र का...
वो भी युवा थे..
जिसने दर्शन कराए धर्म के...
विश्व पटल पर किए कर्म से..
वो भी युवा थे..
हंसते हंसते जिन्होंने मौत चुनी...
कर दी चूनर माँ भारती की धानी...
खिलौने खेलने की उमर में...
जिन्होंने बंदूकें तानी दुश्मन पर...
कमसीन उमर में कोढ़े सहे तन पर...
हम आप भी तो युवा है...
फिर क्यों दिग्भ्रमित है...
क्यों घिरे है अकर्मण्यता से..
क्यों नहीं संकल्पित है...
आओ राष्ट्र हित के काम करें..
जग में नाम सुनाम करें..
है युवा आज उलझा हुआ...
नशे और विलासिता में रमा हुआ...
उठो जागो संकल्प करो...
उड़ान उन्मुक्त गगन में भरो...
फैले संशय अकर्मण्यता के...
हौसलों से परास्त करो..
प्रगति के नव सोपान गढ़ो...
जग में नव किर्तिमान गढ़ो..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
कल तक जो अखबार बेचता था..
आज अखबार की सुर्खि हो गया..
फुटपाथ पर कंपकंपाता वो..
ठंड के आगोश में चिरनिद्रा में सो गया..
खबरें तो रोज छपती है..
नई योजनाओं की..
पर गरीब का कंबल भी अमीर औढ़ गया..
है ये भ्रष्टाचार इस भ्रष्टतंत्र का..
गरीब गरीब ही रहा..
अमीर और अमीर हो गया..
वो तपता रहा धूप में..
तुम ठंडी हवा के झोंकों में नींद उढ़ाते रहे..
तुमने अखबार का मुख्य पृष्ठ चुना..
और उस गरीब को मिला एक कोना..
जब-जब पड़ी जरूरत तुम्हें..
उसके ही तुम शरण गये..
एक एक वोट की खातिर..
दर पर उसके झोली फैलाए..
आज पड़ी लाश वो लावारिस सी..
मिला मौका फिर तुम्हें भुनाने को..
चले तुम एक दूजे पर आरोप लगाने को...
अपनी गंदी राजनीति का मत, 
बनाओ हथियार उसे..
दो जुन की रोटी पा जाए वो..
बस दे दो इतना अधिकार उसे..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
चयन आपके शब्दों का...
है परिचायक आपके संस्कारों का...
चयन आपकी राहों का...
है परिचायक आपके सिद्धांतों का...
चयन आपके कर्मों का...
है परिचायक आपके आदर्शों का..
चयन आपके विचारों का...
है परिचायक आपके संतोष का..
चयन आपके आचरण का...
है परिचायक आपके धैर्य का...
चयन आपके सपनों का...
है परिचायक आपकी प्रतिबद्धता का...
चयन आपके संकल्प का...
है परिचायक आपकी सफलता का...

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

कागजी धरा पर...
कलम रूपी हल चलाकर
बोए कुछ शब्द बीज...
काव्य रूप में अंकुरित हुए..
भावों की मिट्टी में..
कल्पनाओं के सिंचन से..
मस्तिष्क तंतुओं से छनकर..
सृजन रूप अवतरित हुए..
नवांकुर लिया जब शब्दों ने..
झकझोर दिया हृदय पट..
बनकर दीप ज्ञान का..
शब्द स्वतः प्रकाशित हुए..
सहकर आलोचनाओं के तूफां..
काव्य तरु स्थापित हुए...

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
ऐ कलम दिखा कुछ जादू....
आया भावों का अभाव आज...
लिख कुछ जादुई सृजन...
पड़े छोड़े दिलों पर प्रभाव आज...
कर करिश्मा कोई...
दिखा जादुगरी तेरी....
तूने तो कई इतिहास लिखे है..
अमर हुए वो हर पृष्ठ है...
तूने जिसकी गाथाएं लिखी..
अमर हुए वो हर शख्स है...
फिर आज क्यों मौन है?
क्यों हर शब्द गौण है?
पार उतार दो भवसागर से...
बन जाओ पतवार मेरी...
हो जाए नाम मेरा भी...
कर दे हर आस पूरी मेरी..

स्वर
चित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

यादों में उनकी बदली है कितनी करवटें....
सब हाल बयां करती बिस्तर की सलवटें...

हसीं सपनों की ख्वाहिश में लेटे रहे बस...
नींद न आई आँखों में बदलते रहे करवटें...

साथ जीने मरने के सजाए थे अरमान...
हिस्से में आई मेरे सिर्फ़ ये तन्हा करवटें...

आकर थाम लो अब हाथ मेरा ए "गज़ल"...
आ बदल लें अब हम एक दूजे की करवटें..

यादों की तस्वीर से निकल कर सामने आ...
पा जाए अब सुकूं ए मोहब्बत मेरी करवटें..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

हे....कान्हा..
बना कोई वसन ऐसा...
जिससे अस्मिता बचे मेरी...
या रोक ले...
जन्म उन दुशासन का..
जिससे रहे सुरक्षित नारी...
हे...कान्हा...
कर कोई जतन ऐसा...
भोग विलासिता से हटकर...
बने कोई पहचान मेरी...
दे कोई 
गीता का ज्ञान फिर...
या कर अब महाभारत की तैयारी... 
लाज वसन अब छोड़ूगीं....
रण चंडी सा रूप अब धारूंगी...
करूंगी सर्वनाश उनका...
नजर जो डाले चीर पर...
वो हर आँख निकाल लूंगी...
आज की नारी हूँ....
न अबला न बेचारी हूँ....
बस हालात की मारी हूँ.....
नहीं तो में ही जगतारी हूँ....

स्वरचित :- मुकेश राठौड़


@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ 

तरसती धरा को..
वर्षा की बूंद से राहत..
बेचैन किसान को...
उमड़ते मेघों से राहत...
बिलखते शिशु को...
मातृ आँचल मे राहत...
डगमगाती नौका को..
पतवार से राहत..
बेचैन भंवरों को..
खिलते पुष्पों से राहत..
बेचैन हृदय को..
प्रभु भक्ति से राहत...
स्याह अंधियारों को..
नन्हे दीपक से राहत..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@


हे रणधीरों नमन है नमन है..
नमन है तुम्हारी वीरता को..
नमन है तुम्हारे समर्पण को..
नमन है तुम्हारी समरसता को..
हे रणधीरों नमन है नमन है..
नमन है हर उस क्षण को,
जो जिया तुमने सरहद पर..
नमन है हर उस फैसले को,
जो लिया तुमने सरहद पर..
हे रणधीरों नमन है नमन है...
नमन है तुम्हारे धैर्य को,
जब सहे तुमने आघात अपनों के..
नमन तुम्हारे बलिदानों को..
जो दिए तुमने अपने सपनों के..
हे रणधीरों नमन है नमन है...
सरहद की रखवाली में..
खेले अपनी जान पर..
परवाह न की कभी तुमने अपनी...
मिट गए मातृभूमि की आन पर..
हे रणधीरों नमन है नमन है...


स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
सरहदें बांधती 
राष्ट्रीयता..
सरहदें बदलती 
सभ्यता..
सरहदें होती है 
मान राष्ट्र का..
इस पर बलि देती वीरता..
शौर्य की गाथा गाती..
सरहदें सर्वदा..
निर्भीकता बसाती
सरहदें सर्वदा..
सरहदें होती
रक्षक राष्ट्र की...
सरहदों पर टूटती..
चूड़ियां नववधुओं की..
ये सरहदें लूटती
सहारे बूढ़ापे के...
सरहदें छीनती आसरे..
मासूमियत के..
जात,पात व धर्म की
तोड़ दो सरहदें..
वसुधैव कुटुंबकम के
खोल दो रास्ते..
जी लो एक दूजे के वास्ते..
स्वरचित :- मुकेश राठौड़



@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

संकल्प

संकल्प पथ है कर्म का..
संकल्प पथ है धैर्य का..
संकल्प पथ पर वही चला..
थामा दामन जिसने धर्म का..

संकल्प हो अडिग ऐसा..
तोड़ न पाए विपदा कोई..
भिड़ जाए हर संकट से..
या हो भीषण आपदा कोई..

संकल्प आत्मविश्वास है..
संकल्प ही हर उजास है..
अडिग रहो सदा इसपर..
तो सफलता सदा पास है..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@



निर्मल अविरल सी धारा है,
इसे सहेजना कर्तव्य हमारा है।

जल ही जीवन जल ही आधार,
जल ही अब संसार हमारा है।

बूंद बूंद अमृत सी प्राण सुधा,
संरक्षित करना ध्येय हमारा है।

उत्कल गंगा व पावन नर्मदा,
सकल जीवन का सहारा है।

न करो प्रदूषित इस जल को,
ये जल ही अस्तित्व हमारा है।

निर्मल निश्चल है स्वभाव इसका,
खुद बैरंग सही पर हर रंग प्यारा है।

स्व

रचित :- मुकेश राठौड़



@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

करते नहीं वार निहत्थों पर..
यही है हिंदुस्तान के संस्कार..
कितना रहम किया प्रताप ने..
पढ़ लो अकबर नामा एक बार...
इतिहास डूबो दिया चंद गद्दारों ने..
माँ भारती को लहू से भिगोया है सरदारों ने..
देखो गुरु गोविंद सिंह का बलिदान...
धर्म के नाम पर कर दिए बालक कुर्बान..
करते रहे वही अंग्रेजों की गुलामी..
जिनका मर चूका था जमीर..
सहे प्रहार भगत,बिस्मिल ने भी..
पर त्यागा नहीं कभी अपना जमीर...

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@


कला है उपहार ईश का..
निज अंतस को निखारती..
कला कर्मण्यता का आधार..
कला समग्र प्रतिभा उभारती..

कला तव मस्तिष्क का..
निरंतर करती विकास..
कला आधार ज्ञान की..
नापती कल्पना आकाश..

कला प्रकृति की मनोहर..
खग विहग गाते अति सुंदर..
झरने की झरण कला..
कला है सरिता की सर सर..

कला साहित्य सृजन है..
कलम बनती आधार है..
कला है सुर,लय व ताल..
कला भावों का उद्गार है..

कला समंदर अथाह है..
बन जा हंस मोती चुनकर..
पारस तक मिल जाता..
चल परिश्रम के पथ पर..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
आसरा टूटा सहारा लूटा...
लूटा किसी का घर संसार..
चूड़ियाँ टूटी खुशियाँ लूटी..
मातम का किया विस्तार..

कायरता ने औकात दिखाई..
शौर्य देखेगा अब संसार..
लिखेंगे इबारत खून से..
भरेंगे रणभेरी अब हुंकार..

लहरायेंगे तिरंगा लाहौर में..
जय हिंद की होगी ललकार..
करेंगे शंखनाद अब युद्ध का..
होगी माँ भारती की जयकार..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@




है विश्वास तुम पर..
सदा से है नाज तुम पर..
माँ भारती के दुश्मनों को 
धूल तुम चटाओगे..
उठेगी आँख जो फिर कोई..
वो आँख निकाल लाओगे..
एक सौ तीस करोड़ दुआ है संग तुम्हारे..
विजयी होकर आओगे..
कर दो हमला उसी की भाषा में..
जो भाषा समझता है दुश्मन..
हो घर के बाहर बैठा..
या हो घर के अंदर का दुश्मन..
आग लगा दो सभी को...
जो उठाए उंगली भी माँ भारती पर..
मिला दो खाक में सभी को..
जो रखे नापाक कदम माँ भारती पर..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

"विदाई वीरों की"

नम है आँखें...
हृदय सुलग रहे है..
भाव बदले के..
बस दिल में उठ रहे है...
जल रही चिताएं..
उन वीर जवानों की..
हो रही विदाई..
अलबेले मस्तानों की..
जल उठी चिताएं..
नववधूओं के सपनों की..
बूढ़े कंधे ढो रहे है..
देह अपने अरमानों की..
हो रही विदाई..
अलबेले मस्तानों की..
तिरंगा बन रहा छांव..
उन सरहद के दीवानों की..
कूक उठी कोयलिया भी..
वासंती आसमानों मे..
रजकण सी फैल गई...
चूनर भारती की फिजाओं मे..

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ 
पुलवामा में हुए भीषण आतंकी हमले में 
शहीद जवानों को 😢😢💐💐💐श्रद्धांजलि

कलम मेरी आज....
मुझसे रूठ सी गई..
कब तक लिखूँ शहादतें..
कहकर फिर ताना मार गई..
हर उस लफ्ज पर...
रोती रही... सिसकती रही...
जो कहता कहानी जवानों की...
जो इतिहास बनने जा रही...
शहादत वीर जवानों की...
आतंकी मंजर देखकर..
सिहर उठी कलम मेरी..
रक्तरंजित शव देखकर..
लफ्ज लफ्ज थे अश्रुपूरित..
स्याही के धब्बे से बनते गए..
कागज भी आज मेरे... 
जवानों के खून से सनते गए..
तिरंगा भी झुक सा गया..
शहादत में जवानों की..
कहता रहा..रोता रहा..
कब तक बनूं कफन मैं..
आतंक की आगोश में..
कब तक होता रहूँ दफन मैं..
होश में आओ सत्ताधीशों..
कर दो संहार दुश्मनों का..
ले लो बदला जवानों का...
ले लो बदला जवानों का..

व्यथित मन से...
स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ 


मिट्टी से जुड़ा हूँ..
मिट्टी में ही पला हूँ..
मिट्टी की ही काया है..
मिट्टी का ही खाया है..
मिट्टी ही संसार है..
मिट्टी ही माया है..
मिट्टी से ही सपने है..
मिट्टी के ही घरौंदे है..
मिट्टी के ही हाथी घोड़े..
मिट्टी के ही परिंदे है..
मिट्टी मेरा कर्म है..
मिट्टी ही अब धर्म है..
मिट्टी ही मेरी माता है..
मिट्टी से ही नाता है..
सकल सृष्टि की पालक..
मिट्टी ही शाश्वत विधाता है...

स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ 


घुलता जहर जब कानों में,
बढ़ती दरारें आशियानों में।
शब्द,शब्द बनते जहर तीर,
कराते बिखराव इंसानों में।

घुलता जहर जब कानों में,
खोता आपा इंसान अपना।
क्रोध के आवेश में जलता,
नहीं देखता पराया,अपना।

घुलता जहर जब कानों में,
नहीं इलाज है दवाखानों में।
भुलाकर रिश्तों को अपने,
फंस जाता झूठे अफसानों में।

दुश्मन होता भाई भाई का,
घुलता जहर जब कानों में।
खींच जाती है तब दीवारें,
खुशियों से भरे मकानों में।

स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ 


इस जाते हुए साल ने....
दिये कुछ तोहफे अनमोल..।
उन तोहफों में...
मेरे लिए हो आप अनमोल..
कुछ यादें समेटे....
जा रहा ये साल...
बना रहे रिश्ता हमारा..
साल दर साल..
हो आप दूर मुझसे..
पर रंज नहीं मुझको...
आंखे बंद करूं जब..
करीब पाऊं आपको..
है ये वादा मेरा आपसे...
साथ रहूंगा जनम जनम..
नहीं भूलूंगा कभी..
चाहे खुशियाँ हो या गम...

स्वरचित मुकेश राठौड़
.@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ 



हाथ पकड़ कर
चलती थी जो
कब डोली
बैठ गई,
नन्ही चिरैया
कब अंगना से
उड़ गई ,
आँखें नम करके भी
मुस्कुरा के चल दी
अंगने महकती
खूश्बू छोड़ गई .।
नन्ही चिरैया..
का ठौर बदला....
अब अपने..
नियत ठौर चली...
संग सखियों के....
कलकल करती थी...
फूदक फूदक कर...
अंगने चहकती थी...
छोड़ आँचल ममता का....
खुद ममत्व की ओर चली..


स्वरचित :- मुकेश राठौड़ 









@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ 

दिलों में बढ़ती कड़वाहट,
बयां करते नये किवाड़।
एकल परिवार की तर्ज पर,
बनते कई नए किवाड़।
छोड़ दिये बिलखते,
पुराने किवाड़।
राह तकते अब वही किवाड़।
जिन किवाड़ के पीछे,
छुपा छुप खेले होंगे,
भाई,बहनों के संग।
अब बुलाते है वो किवाड़।
जिन किवाड़ों के खटकाने से,
हो जाती थी हर जिद पूरी।
आज वही किवाड़ तरसते होंगे।
जिन किवाड़ो पर खड़े रहकर,
किसी माँ ने राह तकी होगी।
आज वही किवाड़ सिसकने लगे।
आज वही किवाड़ तड़फने लगे।

स्वरचित :- मुकेश राठौड़




दस्तक मौत की आने लगी अब
उम्र भी लड़खड़ाने लगी अब
साथ तेरा खोकर सहारो की आस
इस दिल को तड़पाने लगी अब
दस्तक मौत की आने लगी अब....
जन्म से आज तक 
वो साथ मेरे चलती रही
मैं सोचता था जी रहा
पर वो मेरे लिए मरती रही
जी हाँ वो श्वांस मेरी
जो हरपल हरदम साथ मेरे चलती रही
मैं इतराता अपने स्वरूप पर
पर वो हरदम मेरे सीने में धड़कती रही
मेरे हर गम में
साथ मेरे रोती रही
मेरी हर खुशी में
साथ मेरे हंसती रही
बन खिलौना जीवन का
साथ मेरे रमती रही
जब आई तरूणाई 
वो और तेज गति से चलती रही
उम्र के इस ढलान पर भी
इस जड़ तन का बोझ ढोती रही
अब अंत समय आया
वो द्वार पर बैठ कर रोती रही
सज रही अर्थी जब
सबकी आंखों को डबडबाती रही
जी हां वो श्वांस ही थी
जो आज तक साथ मेरा निभाती रही
अब ये तन सिर्फ माटी है
मेरी जान मेरी श्वांस अब जाती रही
हर दम हर पल साथ मेरा निभाती रही

स्वरचित :- मुकेश राठौड़


@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ 

विधा :- लघु कविता



क्षण बड़ा निर्दयी होता है
मौत की आगोश में सोता है
अपने ही दम पर जीता है
अपने ही दम पर मरता है


जो जी ले हर क्षण को
क्षण उसका ही होता है
हर क्षण जीने की हौसला
कहाँ हर जन में होता है
जी लो जी भर जिंदगी
क्यों क्षणिक गमों को रोता है
क्षण भंगुर है जीवन तेरा
क्यों इतने सपने संजोता है
क्षणों में टूटा हर सपना
क्यों टूटे शीशे बटोरता है
जी ले संग अपनो के
क्यों बांह गैरों की टटोलता है
क्षण में उड़ते प्राण पखेरू
कर्म सफल कर लो अपने
कुछ ना जाएगा संग तेरे
यहीं रह जाएंगे सारे सपने
हर क्षण बड़ा अनमोल है
इसका ना कोई तौल है
बना ले सद्व्यवहार सबसे
यही "मुकेश" के अंतर बोल है
स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
दस्तक त्योहारों की आ गई
सबके मन में खुशी छा गई
देखते देखते बीत गया साल
दस्तक करवा चौंथ की आ गई

सजी दुल्हन सी हर नारी
फिर से हाथ मेंहदी रचा रही
व्रत निर्जला रख कर दुआ
अमर सुहाग की मांग रही

किये सोलह श्रंगार फिर 
हर घर आँगन महक रहा
कुमकुम बिंदिया माथे पर
हाथ कंगना खनक रहा

रहे अमर चंद्रमा जैसा
मस्तक सिंदूर सुहाग का
देकर अर्ध्य चंद्र को
मांगे वर अमर सुहाग का

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@


ज्योति अमर जवानों
नित्य सदा जलती रहे
स्वतंत्रता की खूश्बू 
नित्य यहाँ फैलती रहे

ज्योति पावन गंगा की
नित्य यहाँ बहती रहे
बन ज्ञान की ज्योति
सदा अमृत्व छलकाती रहे

ज्योति पावन संस्कृतियों की
विश्व पटल पर बनी रहे
जात,धर्म के भेद ना हो
सभ्यता ऐसी घनी रहे

हो प्रकाशित हर मन
ऐसी तरलता बनी रहे
दूर हो हर अहंकार
ऐसी निरंतरता बनी रहे

हो कर्म हम सबके ऐसे
शान तिरंगे की बनी रहे
करते रहे सब सदाचार
आन देश की बनी रहे

कहता "मुकेश" बारंबार
ईमान सबका बना रहे
अमर सदा विश्व पटल पर
नाम हिन्दुस्तान बना रहे


स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

काश अहंकार का कोई पैमाना होता
हर कोई अपना अहंकार नाप लेता
टूटते रिश्तों को अपने बचा पाता 

काश अहंकार का कोई पैमाना होता
अपनी प्रतिभा का सदुपयोग कर पाता
छल कपट की भावना से उबर पाता

काश अहंकार का कोई पैमाना होता
जन मानस में अपना स्वाभिमान बनाता
उबर जाता अपने अंतर्भाव से
लड़ पाता हर दूर्भाव से

काश अहंकार का कोई पैमाना होता
"मैं" का मुझसे नाता समझ पाता
इस "मैं" ने कितने घर फूंके
कितने रिश्ते जलाए....बनके अंजान

काश अहंकार का कोई पैमाना होता
अनाचार कर ना पाता
अनाचार का उद्भाव अहंकार से
ये सब कोई समझ पाता

काश अहंकार का कोई पैमाना होता
जहाँ अहंकार भाव नहीं
जीवन में कोई अभाव नहीं
कहता "मुकेश" सबसे यही
अहंकार का त्याग करो आज अभी

स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@


धनतेरस धन्वंतरि दिवस
माँ लक्ष्मी का हो गृह प्रवेश
ऐसी शुभकामनाएं मेरी
मिले सबको मंगलमय यश

करें पूजन माँ लक्ष्मी का
धन धान्य भंडार भरे
मिले आशीष प्रभु धन्वंतरि का
रहे रोग दोष सबसे परे

खुशियों से भरे घर आँगन
दीपों से हो उजियार
भर लो जोश उमंग मन में
लेकर ज्ञान उजियार

माँ लक्ष्मी की कृपा से
अन्न धन धरा पर बरसे
ऐसी विनती "मुकेश" की
दीन कोई रोटी को ना तरसे

स्वरचित :- मुकेश राठौड़

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
विधा :- लघु कविता

रूप सौंदर्य प्रदायिनि
कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी
पावन तिथि बरस की
निखारे रूप जैसे उर्वशी

दान निखारे सौंदर्य
करो दान दीनन को
पर्व है उल्लास का
खुशियां बांट निर्धन को

सौंदर्य मिले कल्पवृक्ष सम
ऐसा वरदान मिले सबको
पूजन करो रूप चतुर्दशी
उर आनंद मिले सबको

स्वरचित मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

शीर्षक :- आवाज
विधा :- लघु कविता

तेरी पहली आवाज ने
कितना असीम सुख दिया होगा
उस माँ की आँचल में
स्वतः दुग्ध छलका दिया होगा

तेरी आवाज सुन सुनकर
कितने अरमान सजाए होंगे
कितने तेरे नाज नखरे
उस माँ ने उठाए होंगे

क्यूं भुला दी तुमने
वो मधुर लोरी की आवाज
किसकी खातिर तुमने
बुलंद की अपनी आवाज

क्यूं आज तेरी ऊंची आवाज
उस माँ का कलेजा फाड़ती है
क्यूं आज तेरे सक्षम होते हुए
वो माँ गैरों के जूठे बर्तन माँझती है

सुनो मुकेश हृदय की आवाज
भले मत करो कोई उपकार
जिसने तुम्हें जनम दिया
मत करो उस पर अत्याचार

स्वरचित :- मुकेश राठौड़
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@










No comments:

"विधि/विधान"20नवम्बर 2019

ब्लॉग की रचनाएँ सर्वाधिकार सुरक्षित हैं बिना लेखक की स्वीकृति के रचना को कहीं भी साझा नहीं करें   ब्लॉग संख्या :-571 अभी सक्रिय है ...